No icon

Lord Ganesha

विघ्नहर्ता श्री गणेश के बारे में इन रोचक बातों को भी जान लीजिए

गणेश शिवजी और पार्वती के पुत्र हैं। उनका वाहन डिंक नामक मूषक है। गणों के स्वामी होने के कारण उनका एक नाम गणपति भी है। ज्योतिष में इनको केतु का देवता माना जाता है और जो भी संसार के साधन हैं, उनके स्वामी श्री गणेशजी हैं। हाथी जैसा सिर होने के कारण उन्हें गजानन भी कहते हैं। गणेश जी का नाम हिन्दू शास्त्रो के अनुसार किसी भी कार्य के लिये पहले पूज्य है। इसलिए इन्हें प्रथमपूज्य भी कहते है। गणेश कि उपसना करने वाला सम्प्रदाय गाणपतेय कहलाते है। श्री गणेश, गजानन, लंबोदर, गणपति और विनायक जैसे कई सुंदर नामों से पुकारे जाने वाले इन देवता की हर बात निराली है। आइए जानते हैं उनसे जुड़ी दिलचस्प बातें...

1.श्री गणेश को लाल व सिंदूरी रंग प्रिय है।
2. दूर्वा के प्रति विशेष लगाव है।
3. चूहा इनका वाहन है। बैठे रहना इनकी आदत है।
4. लिखने में इनकी विशेषज्ञता है। पूर्व दिशा अच्छी लगती है।
5. लाल रंग के पुष्प से शीघ्र खुश होते हैं।
6. प्रथम स्मरण से कार्य को निर्विघ्न संपन्न करते हैं। 
7. दक्षिण दिशा की ओर मुंह करना पसंद नहीं है।
8. चतुर्थी तिथि इनकी प्रिय तिथि है।
9. स्वस्तिक इनका चिन्ह है।
10. सिंदूर व शुद्ध घी की मालिश इनको प्रसन्न करती है। 
11.गृहस्थाश्रम के लिए ये आदर्श देवता हैं। कामना को शीघ्र पूर्ण कर देते हैं।

Comment As:

Comment (0)